क्यों आज भी है हार्ड कवर बुक्स ई-बुक्स पर भारी

लेखक: रश्मित कौर

कहते है किताबें हमारी सच्ची मित्र् होती है हम कितने भी बड़े हो जाए पर जिन्दगी के हर मोड़ पर ये किताबें हमारा साथ हमेशा देती है। उस मोड़ पर भी यह हमारे साथ खड़ी दिखती है जहा सब साथ छोड़ जाते है यानि चाहे बात करें बुढ़ापे के दिन सांझा करने की या बात करे विपरीत परिस्थितियों के उन दिनों की जब अकेलापन इंसान को हर ओर से बेकार बनाता है और मानसिक रूप से इंसान को खाने लगता है। ऐसे में किताबें ही हमें सहारा देती है और जिन्दगी में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। ओर तो ओर हर साल व्यक्ति के लिए किताब एक कल्प वृक्ष का काम भी करती है क्योंकि उन्हीं की मदद से आज हर साल व्यक्ति गुमनाम से पहचान के शिखर तक का रास्ता तय करता है। इसलिए आज भी किताबों को खूब पसंद किया जाता है। चाहे बात करें धार्मिक किताबों की या बात हों मैगजीन या किस्से कहानियों की आज की फैशनेबुल और मॉर्डन दुनिया में भी ये किताबें अपनी जगह बखूब बनाए हुई है।

वैसे देखे तो आज का जमाना बेहद फ़ास्ट या कहें वन किल्क हो गया है। यानि आप जिस भी चीज की कल्पना मन में करते है वो सभी इंटरनेट पर आसानी से उपल्बध है । साहित्य का यह रूप देख कर लगता है मानो हम बेहद डिजिटल युग मे जी रहे है लेकिन आज भी युवा हो, बच्चा हो या हो कोई बुढ़ा व्यक्ति आज भी वो ई बुक से ज्यादा रूचि बुक की हार्ड कापी में दिखा रहा है और अरसे से चले आ रहे ये चलन अब भी यों ही चल रहे है।

सकून भरा अहसास

किताबों को जहा सच्चा मित्र् कहा जाता है वह यह भी कहा जाता है कि किताबों पर किया गया खर्चा कभी व्यर्थ नही जाता क्योंकि हमेशा वो हमें कुछ न कुछ जरूर दे जाती है। इसलिए इटरनेट के जमाने में भी रंग बिरंगे कागज में लिपटी रंगीन तस्वीरो से सजी बुक अब भी ई -बुकस के मुकाबले ज्यादा पसंद की जा रही है इसका एक बहुत सीधा सा कारण है कि जहॉं हाथ में लेकर किताब केा पढ़ने में जो सुकून और आत्म संतुष्टि मिलती है वो संतुष्टि आपको इंटरनेट पर साहित्य पढने से नहीं मिल सकती क्योंकि जितनी देर आप खुद बैठकर किताब पढने का मजा ले सकते हो उतनी देर आप कम्पयूटर या मोबाईल पर नहीं पढ़ सकते।

टाइम पास
मेट्रो सिटीज की बात करें तो लोग आज अत्यधिक व्यस्त होने के कारण ई -बुक का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते है। राजधानी दिल्ली में तो आलम यह है कि सुबह की पाठ पूजा भी लोग अपने मोबाईल ऐप के जरिए ही ट्रेवल के दौरान कर लेते है ऐसे में कुछ लोग ई-बुक को टाइम की बचत कहते है तेा कुछ का कहना है कि ट्रेवल में टाइम पास करने के लिए ई-बुक अच्छा ऑप्शन है लेकिन कुछ टाईम के लिए ही क्योंकि ज्यादा देर के लिए ये भी बोझिल होने लगता है।

टिकाव / रिलैक्स
हार्ड-कॉपी किताबों में एक स्थायित्व एक टिकाव होता है जो जिससे किसी भी व्यक्ति को लगाव व अपनेपन का अहसास करवा जाती है जो ई-बुक में नहीं मिल सकता हालाकि आज तमाम कम्पनियां ये दावा करती है कि ई-बुक की बहुत डिमांड है लेकिन इस सच को भी नकारा नहीं जा सकता कि आज भी किताबों का बाजार अपने उफान पर है आज भी लोग तोहफों के तौर पर इसे देना एक अच्छी आदत समझते है । किताबों की ये इंम्पोटेन्स इस बात से भी लगाई जा सकती है कि आज भी बुक फेयर में लोगों का तांता वैसे ही लगता है जैसे कुछ समय पहले लगा करता था। और इसलिए आज भी लाईब्ररी का इस्तेमाल व महत्व वैसे ही बना हुआ है।

गुमनाम साहित्य
ई-बुक्स के साथ एक समस्या और है कि आज इतना ज्यादा कम्पटीशन है कि ओनलाईन बाजार में कई साहित्यकार खड़े है जिससे हम आप जैसे पाठक चकरा जाते है कि किस साहित्यकार को पढ़े ऐसे में समस्या आती है गुमनाम साहित्य की । क्योंकि हार्ड कॉपी किताबों के लिए जो पूरा प्रोसेस करना पड़ता है वही प्रोसेस ओनलाईन साहित्य को छपवाने के लिए किया गया हो यह जरूरी नहीं है। ऐेसे में कई गुमनाम कवि , व लेखक पैदा हो जाते है जो साहित्य व साहित्य से जुड़े पाठकों को भ्रमित करते है।

तुम्हीं तो मेरी दोस्त हो……….
27 वर्षीय रेलवे ऑफिसर चंदना मुखर्जी का कहना है कि आज भी बालकनी में मै और मेरी किताब छुटटी के दिन हमेंज़ा साथ टाईम बिताते है और मैं हर रविवार सुबह या शाम जब भी समय मिले मैं जरूर मेरी सहेली यानि बुकस के साथ समय बिताती हॅूं । और हॉं दिल्ली में लगने वाले बुक फेयर को मैं कभी मिस नहीं करती क्योंकि वह हमेशा मेरे दिल के करीब रहा है। और आज मैं जितनी भी डिजिटल क्यों न हो जाउॅं लेकिन किताबों के मामले में मैं आज भी ऐसे ही रहना चाहती हू और यदि आप देख सके तो मेरी तमाम अलमारी आज भी किताबों से भरी है।

इसी तरह पूजा का कहना है कि मेरे बॉस वैसे तो तमाम सोशल नेटवर्किंग साईट से जुड़े है चाहे बात वॉट्स अप की हो, ट्विटर या फेसबुक की हो सभी के लिए वह बेहद एक्साईटेड रहते है और अपटूडेट भी, लेकिन फिर भी किताबों के मामले में नो कोम्प्रोमाईज़ क्योंकि ऑलवेज उनकी टेबल पर उनकी पसंदीदा किताबें पड़ी रहती है। और तो और उनका किताबों से प्यार का अंदाजा तो उनकी गाड़ी में रखी किताबों को देख कर भी लगाया जा सकता है।

25 thoughts on “क्यों आज भी है हार्ड कवर बुक्स ई-बुक्स पर भारी

  • March 7, 2016 at 5:54 am
    Permalink

    Simply wish to say your article is as astonishing. The clarity for your publish is just spectacular and i can think you’re an expert on this subject.
    Well with your permission allow me to snatch your
    RSS feed to keep updated with imminent post. Thank you one
    million and please continue the rewarding work.

  • March 12, 2016 at 10:34 am
    Permalink

    Hi! Do you know if they make any plugins to help with
    SEO? I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords
    but I’m not seeing very good results. If you know of any please share.
    Thank you!

  • March 13, 2016 at 2:58 pm
    Permalink

    Every weekend i used to visit see this webpage, because i want enjoyment, as
    this this site conations actually pleasant funny stuff too.

  • March 21, 2016 at 7:29 pm
    Permalink

    Hey there are using WordPress for your blog platform?
    I’m new to the blog world but I’m trying to get started and create my own. Do you need
    any coding expertise to make your own blog? Any help would be greatly
    appreciated!

  • March 22, 2016 at 8:25 pm
    Permalink

    Hi, i think that i saw you visited my site so i stumbled on return the favor.I’m trying to find things to improve my site!I suppose its ok to make use of some of
    your ideas!!

  • March 24, 2016 at 7:01 pm
    Permalink

    You need to be part of a contest for one of the finest
    sites online. I most certainly will recommend this site!

  • March 26, 2016 at 10:34 pm
    Permalink

    Superb, what a webpage it is! This webpage gives valuable facts to us, keep it
    up.

  • March 29, 2016 at 9:31 pm
    Permalink

    The things i don’t realize is the truth is how you are now
    not actually considerably more neatly-liked than you may be
    now. You’re so intelligent. You understand therefore considerably when it comes to this
    matter, made me inside my view consider it from numerous numerous angles.
    Its like women and men are certainly not interested except it’s something to do with Girl gaga!
    Your own personal stuffs nice. Always maintain it!

  • March 30, 2016 at 9:41 pm
    Permalink

    Hi just wanted to give you a quick heads up and let you know a few of the images aren’t loading properly.
    I’m not sure why but I think its a linking issue.

    I’ve tried it in two different internet browsers and both show the same outcome.

  • April 1, 2016 at 8:59 am
    Permalink

    I am sure this paragraph has touched all the internet people, its really really good
    paragraph on accumulating new webpage.

  • April 3, 2016 at 10:23 am
    Permalink

    I am extremely impressed along with your writing skills and also with
    the layout in your weblog. Could this be a paid theme
    or would you modify it yourself? Anyway maintain the excellent quality writing, it’s rare to see a nice blog
    this way one today.

  • April 5, 2016 at 12:37 am
    Permalink

    Wonderful post! We will be linking to this particular great content on our website.

    Maintain the excellent writing.

  • April 8, 2016 at 10:49 pm
    Permalink

    Greetings I am so happy I found your blog, I really found
    you by accident, while I was browsing on Yahoo for something else,
    Nonetheless I am here now and would just like to say thanks a lot for
    a remarkable post and a all round enjoyable blog (I also love the
    theme/design), I dont have time to read it all at the moment but I have book-marked it and also added your
    RSS feeds, so when I have time I will be back to read a
    lot more, Please do keep up the excellent work.

  • April 11, 2016 at 9:10 pm
    Permalink

    I am just regular visitor, how are you presently everybody?
    This post posted around this website is really fastidious.

  • April 13, 2016 at 10:03 pm
    Permalink

    Hello, after reading this awesome piece of writing i am too cheerful to share my
    knowledge here with colleagues.

  • April 19, 2016 at 1:31 pm
    Permalink

    Heya i am just initially here. I stumbled on this board
    and so i think it is really useful & it helped me out
    much. I really hope to offer something back and help others like you helped
    me.

  • April 20, 2016 at 10:08 am
    Permalink

    I like it whenever people combine and share thoughts.
    Great website, ensure that is stays up!

  • April 22, 2016 at 7:54 am
    Permalink

    Thankfulness to my father who given to me regarding this blog, this weblog is truly remarkable.

  • April 25, 2016 at 11:27 am
    Permalink

    Which is a excellent tip especially to those fresh
    to the blogosphere. Short but very precise information Thank you for sharing this one.
    A must read post!

  • April 27, 2016 at 5:30 am
    Permalink

    For the reason that the admin of this web site
    is working, no hesitation very rapidly it will be renowned,
    due to its feature contents.

  • April 29, 2016 at 10:16 pm
    Permalink

    Good day! This post could not be written any better! Reading
    through this post reminds me of my previous room mate! He always kept talking about this.

    I will forward this write-up to him. Fairly certain he will have a good read.
    Thanks for sharing!

  • April 30, 2016 at 5:07 am
    Permalink

    Everyone loves it when individuals come together and share ideas.
    Great website, continue the good work!

  • Pingback: Google

  • Pingback: Google

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published.