तो क्या प्रदूषण बढ़ने पर बदल सकता है दिल्ली के दफ्तरों का समय ?

By: Munmun Prasad Srivastava

नई दिल्ली। सर्दियों के मौसम में और पराली जलने के दौरान वायु प्रदूषण कम करने और भारी ट्रैफिक जाम में कमी लाने के लिए दफ्तरों के समय को लचीला बनाने के उद्देश्य से दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को व ल् र्ड रिसोर्सेस इंस्टीट्यूट (डब्ल्यूआरआई) के सीईओ से मुलाकात की।
 
मुख्यमंत्री ने कहा, सर्दियों के मौसम में वायु प्रदूषण और पराली जलने की वजह से होने वाले प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली सरकार हर संभव कदम उठा रही है। इस स्थिति से निपटने के लिए हमने पहले ही एक कार्य योजना की घोषणा कर दी है। इसके अलावा, ट्रैफिक जाम की वजह से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए हम दफ्तरों के समय को लचीला करने की योजना पर काम कर रहे हैं। ये एक ऐसा तरीका है जिसे पूरी दुनिया में आजमाया जा चुका है।
 
 
दिल्ली में दफ्तरों के समय को लचीला करने की योजना को लागू करने की तरकीब निकालने की चर्चा के लिए मुख्यमंत्री ने श्री ओ. पी. अग्रवाल को आमंत्रित किया था। श्री ओ. पी. अग्रवाल ट्रांसपोर्ट और अर्बन पॉलिसी इश्यूस के एक जाने-माने विशेषज्ञ हैं। आईएएस अधिकारी रह चुके अग्रवाल भारत सरकार में अर्बन ट्रांसपोर्ट डिवीजन के प्रमुख रह चुके हैं। बैठक में मुख्यमंत्री ने श्री ओ. पी. अग्रवाल से अनुरोध किया कि वह सरकारी विभागों में दफ्तरों के समय को लचीला बनाने की एक योजना तैयार करें।   
 
 
मुख्यमंत्री ने श्री ओ. पी. अग्रवाल से पूछा कि किस तरह से दिल्ली सरकार शहर में प्रदूषण कम करने और ट्रैफिक जाम की समस्या को कम करने के लिए दफ्तरों के समय को लचीला बनाने की योजना को प्रभावी तरीके से लागू कर सकती है। मुख्यमंत्री ने ये भी इच्छा जाहिर की है कि इस योजना में इंडस्ट्री एसोसिएसंश को भी शामिल किया जाए ताकि वे भी अपने यहां दफ्तरों के समय को लचीला बनाने की योजना को लागू कर सकें।
 
 
मुख्यमंत्री ने कहा, दफ्तरों में जाने और लौटने के समय में बहुत सारे लोग प्रतिदिन यात्रा करते हैं, इस वजह से दिल्ली के कई स्थानों पर बहुत जाम लगता है। हम ऐसी जगहों और रूट्स को चिह्नित करेंगे और इन रूट्स पर यात्रा करने वाले लोगों के लिए दफ्तरों के समय को लचीला करने की योजना की संभावनाएं तलाशेंगे।  
 
 
मुख्यमंत्री ने 25 सितंबर को दिल्ली के उप-राज्यपाल श्री अनिल बैजल से मुलाकात करके उन्हें शहर में ट्रैफिक जाम और प्रदूषण से निपटने की अपनी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। अपने ट्वीट में मुख्यमंत्री ने लिखा, दिल्ली के उप-राज्यपाल महोदय से मुलाकात की और उन्हें दिल्ली में वायु प्रदूषण कम करने के लिए ऑड-ईवन सहित अन्य उपायों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने सहयोग करने का आश्वासन दिया और दफ्तरों के खुलने और बंद होने के समय को लचीला बनाने का सुझाव दिया। दिल्ली सरकार इसे निश्चित रूप से लागू करेगी।   
 
शहर में वायु प्रदूषण को कम करने की दिशा में दिल्ली सरकार ने अनेक प्रभावी कदम उठा रही है। दिल्ली में 4 नवंबर से 15 नवंबर के बीच दोबारा ऑड-ईवन लागू किया जाएगा। इसके अलावा प्रदूषण कम करने के लिए 7 प्वाइंट पराली पलूशन एक्शन प्लान लागू किया जा रहा है। दीवाली के मौके पर एक मेगा लेजर शो का आयोजन किया जा रहा है ताकि लोगों को बिना पटाखे के त्योहार मनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। लोगों को मुफ्त में मास्क बांटा जाएगा। मैकेनाइज्ड स्वीपिंग सिस्टम को लागू किया जा रहा है। ट्री प्लांटेशन ड्राइव चलाया जा रहा है। इसके अलावा दिल्ली में प्रदूषण के लिहाज से बेहद गंभीर 12 स्थानों के लिए अलग से कार्य योजना लागू की जा रही है।  

851 thoughts on “तो क्या प्रदूषण बढ़ने पर बदल सकता है दिल्ली के दफ्तरों का समय ?