अगर आप भी लेफ्टी हैं तो इसे कुदरत का उपहार समझिए

-इंजी.एस.डी.ओझा

बायें हाथ से काम करने वालों को लेफ्टी कहते हैं .इस दुनियां में 10 प्रतिशत लोग लेफ्टी हैं . 87 प्रतिशत लोग दाएं हाथ से काम करते हैं . मात्र 3 प्रतिशत लोग दोनों हाथों का इस्तेमाल करते हैं .गांधी जी इन्हीं 3 प्रतिशत लोगों में से एक थे . वे जब दायें हाथ से लिखते लिखते थक जाते थे तो बायें हाथ से लिखना शुरू कर देते थे . प्राख्यात कथाकार राजेंद्र यादव ने अपनी आत्मकथा “मुड़ मुड़ के देखता हूं” में किन्हीं मीता वशिष्ट का जिक्र किया है , जो दोनों हाथों से बखूबी लिख लेती थीं . सचिन तेंदुलकर दायें हाथ से बल्लेबाजी करते थे, पर लिखते बायें हाथ से थे . इस तरह दोनों हाथों से काम करने वालों को क्रास वायर्ड कहते हैं .

न्यूयार्क के सेंट लारेंस विश्व विद्यालय के अध्ययन के मुताबिक दायें हाथ के मुकाबिल बायें हाथ वाले लोगों का आई क्यू लेबल 140 से अधिक होता है . बायें हाथ वाले बाक्सिंग , टेनिस जैसे खेलों में ज्यादा अच्छे होते हैं . यदि आप लेफ्टी हैं तो दायें तरफ देखने वाले चेहरे ज्यादा आसानी से बना सकते हैं . दायें हाथ वालों की तुलना में आप ज्यादा आसानी से स्ट्रोक से उबर सकते हैं . तेजी से बदलते आवाजों को आसानी से सुन सकते हैं . लेफ्टी गणित व संगीत में बेहतर प्रदर्शन करते हैं. इंटरएक्टिव खेलों में 32% व गैर इंटरएक्टिव खेलों में 11% लेफ्टी लोगों की भागीदारी होती है .

अगर माता पिता दोनों लेफ्टी हों तो संतान के लेफ्टी होने की 26.1% सम्भावना होती है . यदि दोनों में से एक लेफ्टी हुआ तो संतान की लेफ्टी होने की सम्भावना 19.1 % होती है . यदि माता पिता दोनों राइटी ( दायें हाथ वाले ) हुए तो संतान के लेफ्टी होने की 9.5% चांसेस होते हैं . माता पिता बच्चों का लेफ्टी होना कत्तई पसंद नहीं करते . वे बच्चों को मार मार कर दायें हाथ वाला बनाना चाहते हैं . ऐसा कर वे प्रकृति के बरखिलाफ काम करते हैं . प्रकृति ने बच्चे को लेफ्टी बनाया है तो इसमें हम और आप क्या कर सकते हैं ? प्रताड़ना से कुछ नहीं होगा . बच्चा जैसा है वैसा हीं माता पिता को स्वीकार करना पड़ेगा अन्यथा बच्चे का प्राकृतिक विकास रुक जायेगा . मानसिक स्तर उस स्तर का नहीं होगा , जितना कि होना चाहिए .

कुछ लोग बायें हाथ को बहुत ज्यादा भाव नहीं देते .एक मुहावरा है – बायें हाथ का खेल . मतलब अत्यंत सरल कार्य . एक बच्चे ने परीक्षा में इस मुहावरे को वाक्य में इस प्रकार प्रयोग किया – “शेर का शिकार करना मेरे बायें हाथ का खेल है , पर अफसोस कि वही हाथ टूटा हुआ है .” वैसे दुनियां में बहुत से ऐसे लेफ्टी हुए हैं ,जिनकी तूती बोली जाती थी . सिकंदर महान ,नैपोलियन वोनापार्ट , जार्ज वुश सीनियर , जुलियस सीजर , चार्ली चैपलिन ,अल्बर्ट आइंसटीन, ग्रेटा गार्वो , विंस्टन चर्चिल, मर्लिन मुनरो , प्रिंस चार्ल्स , क्वीन विक्टोरिया , हरिवंशराय बच्चन आदि लेफ्टी के प्रमुख उदाहरण हैं.दिग्गज चित्रकार मिशलैंगलो की फ्रेस्को भी लेफ्टी थे .आज के दौर में ब्रायन लारा ,सौरभ गांगुली ,पेले ,विल क्लिंटन ,युवराज सिंह व अमिताभ बच्चन हैं. और भी कुछ नाम होंगे .

परीक्षा में लेफ्टी लोगों के लिए कोई इनबिल्ट कुर्सी नहीं रखी जाती , जिससे इन लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है .मेडिकल साइंस लेफ्टी होने को कोई बीमारी नहीं मानता . यह एक सामान्य प्रक्रिया है . लेफ्टी होने का निर्णय मां के गर्भ में हीं हो जाता है . कई बार प्रीमेच्योर डिलविरी होने पर भी बच्चे लेफ्टी बन जाते हैं. वैसे लेफ्टी के लिए एक विशेष जीन्स जिम्मेदार होता है , जो पीढ़ी दर पीढ़ी सफर करता रहता है . यदि आपका दाहिनी तरफ का दिमाग ज्यादा सक्रिय है तो आपके लेफ्टी होने की सम्भावना प्रबल होगी .

कुछ लोग इस मिथक से जुड़े होते हैं कि लेफ्टी डरपोक ,स्कीट्सफिनीया के मरीज व कम उम्र वाले होते हैं. पर इस तरह की कोई बात नहीं होती . लेफ्टी लोग उतने हीं सामान्य होते हैं , जितना कि राइटी लोग . हां , लेफ्टी लोग लीक से हटकर हैं , क्योंकि ज्यादातर लोग राइटी हैं . जावेद अख्तर ने शायद लेफ्टी लोगों के लिए हीं लिखा है –

जिधर जाते हैं सब , जाना अच्छा नहीं लगता .
मुझे पामाल रास्तों का सफर अच्छा नहीं लगता.
(फेसबुक वॉल से साभार)

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published.