दिल्ली मंगोलपुरी में कथित तौर पर मुस्लिम युवकों ने की ‘रामभक्त’ रिंकू शर्मा की हत्या

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से एक सनसनीखेज घटना सामने आई है. यहां देर रात एक युवक की घर में घुसकर हत्या कर दी गई है. मृतक की पहचान 26 वर्षीय रिंकू शर्मा के रूप में हुई है, जो बजरंग दल का कार्यकर्ता बताया जा रहा है. रिंकू शर्मा अपने परिवार के साथ मंगोलपुरी में रहता था. वह पश्चिम विहार स्थित एक अस्पताल में बतौर लैब टेक्नीशियन काम करता था. बताया जा रहा है कि रिंकू अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए चलाए जा रहे चंदा अभियान में सक्रिय था और बीते दिन इसी को लेकर झगड़ा हुआ था. फिलहाल इस बाबत पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है और चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

जानकारी के अनुसार, मंगोलपुरी इलाके में देर रात कथित तौर पर कुछ मुस्लिम युवकों ने घर में घुसकर रामभक्त रिंकू शर्मा को चाकू मार दिया. जिससे वह बुरी तरह से जख्मी हो गया. गम्भीर अवस्था में उसे संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया. लेकिन कुछ ही समय बाद रिंकू की मौत हो गई. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मृतक के भाई की मानें तो, बुधवार की रात कुछ युवक उसके घर में जबरन घुस गए थे. जिसके बाद उन्होंने रिंकू पर चाकू से वार कर दिया. रिंकू पर हमला करने के बाद आरोपी वहां से भाग निकले. गंभीर रुप से घायल रिंकू को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां गुरुवार की दोपहर उसकी मौत हो गई.

इस हत्याकांड के बाद इलाके में तनाव बना हुआ है. हालांकि बताया जाता है कि हमलावरों और रिंकू शर्मा के बीच पहले से विवाद था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण को लेकर कुछ दिनों पहले इलाके में जागरूकता रैली निकाली गई थी. इस रैली में इलाके के कुछ युवकों के साथ रिंकू का विवाद हुआ था. हालांकि उस वक्त स्थानीय लोगों के हस्तक्षेप से मामला शांत हो गया था. लेकिन बुधवार की रात घर के पास ही आयोजित जन्म दिन की पार्टी में रिंकू और आरोपियों के नोंकझोंक हो गई थी. जिसके बाद हमलावरों ने घर में घुसकर रिंकू को चाकू घोंप दिया. पीड़ित परिवार के अनुसार, रिंकू की हत्या इसलिए की गई, क्योंकि वह इलाके में ‘जय श्रीराम’ के नारे लगाता था. फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

बालाजी हॉस्पिटल में लैब टेक्निशयन में कार्यरत था रिंकू – Rinku Sharma – #JusticeForRinkuSharma

जिस रिंकू को जिहादियों ने मौत के घाट उतर दिया ,उस रामभक्त ने ही कोरोना काल के दौरान नसरुदीन के परिवार को खून दिलाया था, जिसका बदला उसने उसकी निर्मम हत्या कर उतारा।रिंकू  रातें के समय ड्यूटी करने के लिए जाता था, ठीक उसी वक्त उस पर हमला  किया गया आपको बता दे की पहले एक ऐसी की कोटा में हुई थी, लेकिन इसके विपरीत बाबर के वंशजो को अब बाबरी कलंक धुलने के बाद भी आत्मा उत्पात को बढ़ावा दे रही है, आये दिन फिर से एक बार हिन्दुओ को निशाना बनाना कश्मीर के  हालातो को ताजा  कर रहा है।

दशहरे पर हुई थी कहासुनी, देते थे धमकियांRinku Sharma – #JusticeForRinkuSharma

पुलिस के मुताबिक, रिंकू के बड़े भाई मनु शर्मा के बयान पर पहले हत्या की कोशिश, आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया था। लेकिन रिंकू की मौत के बाद हत्या के सेक्शन को जोड़ दिया गया है। 19 वर्षीय मनु शर्मा ने बयान दिया कि वह माता-पिता व दो भाईयों के साथ मंगोलपुरी स्थित के ब्लॉक में रहते हैं। घर में पिता अजय शर्मा, मां राधा, बड़ा भाई रिंकू और छोटा भाई आशु हैं। मनु का आरोप है कि घर से कुछ ही दूरी पर के ब्लॉक में ही दानिश उर्फ लाली, इस्लाम, मेहताब उर्फ नाटू और जाहिद उर्फ छिंगू रहते हैं। रिंकू और इन चारों के बीच दशहरे पर राम मंदिर पार्क में प्रोग्राम को लेकर कहासुनी हो गई थी। मनु का कहना है कि उसी दिन से यह लोग धमकियां देते थे।

सोशल मीडिया पर उठी न्‍याय की मांगRinku Sharma – #JusticeForRinkuSharma

ट्विटर पर #JusticeForRinkuSharma ट्रेंड कर रहा है। शुक्रवार सुबह 9 बजे इस हैशटैग के साथ 2 लाख से ज्‍यादा ट्वीट किए जा चुके थे। यूजर्स इस हत्‍या को सांप्रदायिक हत्‍या करार दे रहे हैं।