कोरोना महामारी: अब दिल्ली का भाग्य है कैसा ?

-पं शशि मिश्रा (ज्योतिषी)

भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दिल्ली की मीन राशि है, जिसका स्वामी गुरू यानि बृहस्पति है । दिल्ली के लिए वर्ष 2020 शुरुआत से ही खराब रहा। पहले यहाँ साम्प्रदायिक दंगे हुए। जिसमें दिल्ली छलनी हो गयी। दिल्ली की होली भी दंगों की टीस और कोरोंना के चलते फीकी ही रही।दरअसल दिल्ली पर मंडराए इस स्याह मंज़र का मुख्य कारण राहु हैं। राहु के सुख भाव में होने से ही दिल्ली को  तमाम तरह की  दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सच तो यह है कि कोरोना जैसी महामारी भी इसी भाव के वजह से दिल्ली को गहरे संकट में डालकर चर्चा में ला दिया है। लोग इसे देश की राजधानी कम और कोरोना कैपिटल ज़्यादा कह रहे हैं।हालांकि अनेक बुरी ख़बरों के बीच दिल्ली के लिए वर्ष 2020 का उत्तरार्ध अच्छी खबरें लेकर आ रहा है। वैसे, मई और जून में शनि वक्री हुए, जिसमें कुछ बदलाव हुए जो नुकसानदायक ही ज़्यादा रहे परन्तु अब उनका असर कम हो रहा है। यही नहीं सितंबर में जब गुरु का गोचर होगा तो दिल्ली में स्थिति बहुत बेहतर हो जाएगी। । शनि और गुरु का गोचर दिल्ली में परेशानियों का एक मुख्य कारण भी बना है। जहां शनि लोगों में वात रोगों को बढ़ाएंगे वहीं राहू भ्रम, भय मानसिक अवसाद आदि। बृहस्पति की स्थिति अच्छी न होने के वजह से मनुष्य की भोजनप्रणाली खराब रहेगी । इससे बचने के लिए यदि दिल्ली के लोग प्लावनी प्राणायाम करें, तो दिल्ली के लीगों का स्वास्थ्य तेज़ी से बेहतर होने लगेगा। दरअसल मणिपुर चक्र अच्छा होगा तो आपका बृहस्पति भी अनूकुल होगा ।जहाँ तक आर्थिक संकटों से निजात पाने का सवाल है तो मणिपुर चक्र आर्थिक स्थिति में सकारात्मक बदलाव लाता है। वर्ष के अगली छमाही से लेकर समाप्ति तक दिल्ली वालों के लिए अच्छा होगा। कोरोना वायरस का प्रसार दिल्ली में सितंबर 2020 तक बहुत हद तक कम हो जाएगा । इसलिए यदि आप साल की पहली छमाही को लेकर निराश रहे हैं तो विश्वास रखें अगली तिमाही बेहतर और उसकी अगली दिल्ली के लिए सर्वोत्तम सिद्ध होगी।

(ये विचार पं शशि मिश्रा(ज्योतिषी) के स्वयं के हैं। उनसे दूरभाष संख्या-8777597491 पर सम्पर्क कर आप अपनी शारीरिक, आर्थिक एवं मानसिक समास्याओं का ज्योतिष एवं यौगिक समाधान प्राप्त कर सकते हैं।)

172 thoughts on “कोरोना महामारी: अब दिल्ली का भाग्य है कैसा ?

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published.