Saturday, May 25, 2024
bharat247 विज्ञापन
Homeस्वास्थ्यपुरुषों का स्वास्थ्यजानिए नाड़ी उपचार (Nadi Vigyan) के बारे में

जानिए नाड़ी उपचार (Nadi Vigyan) के बारे में

- विज्ञापन -

नाड़ी उपचार एक आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति है जिसमें रोगी की नाड़ियों की जांच करके उसके स्वास्थ्य और रोग की स्थिति का निदान किया जाता है। नाड़ी एक पतली नली होती है जो हृदय से रक्त को शरीर के विभिन्न अंगों और ऊतकों तक पहुंचाती है। आयुर्वेद के अनुसार, नाड़ियों में शरीर के सभी महत्वपूर्ण ऊतकों और अंगों का प्रतिबिंब होता है। इसलिए, नाड़ी की जांच करके चिकित्सक रोगी के शरीर के आंतरिक स्वास्थ्य की स्थिति का पता लगा सकता है।

नाड़ी उपचार में, चिकित्सक रोगी की नाड़ियों को तीन उंगलियों से दबाकर उनकी गति, लय, शक्ति और गुणों का परीक्षण करता है। नाड़ी की इन विशेषताओं के आधार पर, चिकित्सक रोगी के स्वास्थ्य और रोग की स्थिति का निदान कर सकता है।

नाड़ी उपचार (Nadi) के लाभ निम्नलिखित हैं:

  • यह एक गैर-इनवेसिव और सुरक्षित चिकित्सा पद्धति है।
  • यह रोग का प्रारंभिक निदान करने में मदद करता है।
  • यह रोग के कारणों को समझने में मदद करता है।
  • यह रोग के उपचार में सहायता करता है।

नाड़ी उपचार का उपयोग विभिन्न प्रकार की बीमारियों के निदान और उपचार के लिए किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • सर्दी-खांसी
  • बुखार
  • पेट की समस्याएं
  • हृदय रोग
  • मधुमेह
  • उच्च रक्तचाप
  • कैंसर

नाड़ी उपचार एक अनुभवी चिकित्सक द्वारा ही किया जाना चाहिए।

नाड़ी उपचार की प्रक्रिया निम्नलिखित है:

  1. रोगी को आरामदायक स्थिति में बैठने या लेटने के लिए कहा जाता है।
  2. चिकित्सक रोगी की नाड़ियों को तीन उंगलियों से दबाकर उनकी गति, लय, शक्ति और गुणों का परीक्षण करता है।
  3. चिकित्सक नाड़ी के आधार पर रोगी के स्वास्थ्य और रोग की स्थिति का निदान करता है।
  4. चिकित्सक रोगी को उचित उपचार की सलाह देता है।

नाड़ी उपचार एक प्राचीन और प्रभावी चिकित्सा पद्धति है जो रोग के प्रारंभिक निदान और उपचार में मदद कर सकती है।

- विज्ञापन -
Bharat247
Bharat247https://bharat247.com
bharat247 पर ब्रेकिंग न्यूज, जीवन शैली, ज्योतिष, बॉलीवुड, गपशप, राजनीति, आयुर्वेद और धर्म संबंधित लेख पढ़े!
संबंधित लेख
- विज्ञापन -

लोकप्रिय लेख

- विज्ञापन -