Saturday, May 25, 2024
bharat247 विज्ञापन
Homeअद्भुत जानकारीजानें क्यों नहीं खाना चाहिए 'तेरहवीं का भोजन'

जानें क्यों नहीं खाना चाहिए ‘तेरहवीं का भोजन’

- विज्ञापन -

मृत्यु एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, जिसे कोई नहीं रोक सकता। इसी तरह, मृत्यु के बाद भी कुछ नियम और रीति-रिवाज निभाए जाते हैं, जिनमें अंतिम संस्कार, श्राद्ध, और तेरहवीं का भोज शामिल हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मृत्युभोज क्यों नहीं खाना चाहिए? चलिए आपको इसके बारे में बताते हैं।

सम्प्रीतिभोज्यान्यन्नानि आपद्भोज्यानि वा पुनः ।
न च सम्प्रीयसे राजन् न चैवापद्गता वयम् ।।

यह श्लोक महाभारत से लिया गया है, और इसे कृष्ण ने दुर्योधन से कहा है। कृष्ण दुर्योधन का खाना खाने से मना कर रहे हैं क्योंकि वह जानते हैं कि दुर्योधन उन्हें वहां पाकर खुश नहीं है।

श्लोक हमें याद दिलाता है कि भोजन करने का कार्य खिलाने वाले और खाने वाले दोनों के लिए आनंददायक होना चाहिए। जब हम खुश दिल से खाते हैं, तो हम भोजन को अधिक सराहते हैं और इससे पोषित होते हैं।

यहाँ श्लोक की अधिक विस्तृत व्याख्या है:

  • सम्प्रीति भोज्यानि: 
    इसका अर्थ है “खाने वाले को तभी खाना चाहिए जब खिलाने वाला खुश हो।” इसका मतलब है कि हमें उस व्यक्ति से नहीं खाना चाहिए जो हमें खाना खिलाकर खुश नहीं है।
  • आपदा भोज्यानि वा पुनैः: 
    इसका अर्थ है “या फिर आवश्यकता पड़ने पर खाना चाहिए।” इसका मतलब है कि हमें भले ही खिलाने वाला खुश न हो, अगर हमें भूख लगी हो और खाने की जरूरत हो तो हमें खाना चाहिए।
  • न च सम्प्रीयसे राजन् न चैवापद्गता वयम्: 
    इसका अर्थ है “परंतु न तो आप हमें पाकर खुश हैं, न ही हमें आवश्यकता है।” यह कृष्ण का दुर्योधन से यह कहने का तरीका है कि वह उनका खाना नहीं खाने वाले क्योंकि दुर्योधन उन्हें वहां पाकर खुश नहीं हैं, और कृष्ण को भूख नहीं लगी है।

श्लोक हमें खाने के कार्य में संबंध और खुशी के महत्व के बारे में एक महत्वपूर्ण सबक सिखाता है। जब हम उन लोगों के साथ खाते हैं जिन्हें हम प्यार करते हैं और जो हमें प्यार करते हैं, तो भोजन का स्वाद बेहतर होता है और हम इससे अधिक पोषित होते हैं।

- विज्ञापन -
Bharat247
Bharat247https://bharat247.com
bharat247 पर ब्रेकिंग न्यूज, जीवन शैली, ज्योतिष, बॉलीवुड, गपशप, राजनीति, आयुर्वेद और धर्म संबंधित लेख पढ़े!
संबंधित लेख
- विज्ञापन -

लोकप्रिय लेख

- विज्ञापन -