Friday, February 23, 2024
bharat247 विज्ञापन
Homeयौन स्वास्थ्यमहिलाओं को होने वाली सेक्स समस्याएं, कारण और इलाज

महिलाओं को होने वाली सेक्स समस्याएं, कारण और इलाज

- विज्ञापन -

किसी भी उम्र की महिलाओं में यौन समस्याएं होना बहुत आम हैं। ऑर्गेज्म तक पहुंचने में परेशानी एक ऐसी ही यौन समस्या है जो ज़्यादातर महिलाओं को होती है।

यौन समस्याएं होने पर आपको शर्मिंदगी महसूस नहीं करनी चाहिए। कई महिलाएं मानती हैं कि जब बिस्तर पर उन्हें सेक्स का आनंद नहीं मिल पाता तो एक अधूरापन सा लगता है। जबकि अन्य महिलाएं मानती हैं कि उनका काम पार्टनर को ख़ुश करना है और इसलिए वो अपने दर्द या परेशानी की शिकायत नहीं करती हैं।

लेकिन बात यह नहीं है: महिलाओं को बिना दर्द के, मजेदार और आनंददायक यौन जीवन जीने का अधिकार है। इसलिए अगर आपको सेक्स से जुड़ी कोई समस्या है तो डॉक्टर के पास जाने में संकोच ना करें।

महिलाओं की आम समस्याएं ऑर्गेज्म से जुड़ी हैं – संभोग के दौरान महिलाओं का एक बार भी ऑर्गेज्म तक ना पहुंचना या बाद में पहुंचना।

लेकिन मज़ेदार बात यह है कि महिलाओं में यौन समस्याएं दर्द या ड्राइनेस जैसे लक्षणों से पहचानी जाती हैं। जबकि पुरुषों में यौन समस्याओं को बीमारी के नाम जैसे शीघ्रपतन जैसे नाम से जाना जाता है।

क्या इसका मतलब यह है कि महिलाओं की समस्याएं कम महत्वपूर्ण या कम सामान्य हैं? बिल्कुल नहीं। हां यह ज़रूर हो सकता है कि पुरुषों की समस्याओं पर अधिक शोध हुए हैं या पुरुषों की समस्याओं के समाधान के लिए दवा कंपनियां अधिक विकल्प देती हैं।

कुछ यौन समस्याएं ख़राब जीवनशैली से जुड़ी होती हैं और संतुलित आहार, एक्सरसाइज, धूम्रपान से परहेज और एल्कोहॉल के सेवन को कम करके एक स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है। आमतौर पर जो कुछ भी आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा है वह आपके यौन स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है। लेकिन बेशक स्वस्थ जीवन जीने का मतलब यह नहीं है कि आपको बिस्तर पर दिक्कत नहीं होगी लेकिन हां हेल्दी लाइफ से यौन समस्याओं के ज़ोखिम ज़रुर कम हो जाएंगे।

जब आप अपनी यौन समस्याएं लेकर डॉक्टर के पास जाती हैं तो आपके यौन, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बहुत से सवाल पूछे जा सकते हैं। आप इन सवालों का ज़वाब जितनी ईमानदारी और विस्तार से देंगी, आपकी समस्या का निदान करना उतना ही आसान होगा, चाहे भले ही ज़वाब देना थोड़ा अजीब लगे। इसके साथ ही डॉक्टर भी आपकी जांच करेंगे। इस दौरान आपको डरने या शर्माने की ज़रूरत नहीं है। याद रखें कि समस्याएं होना बहुत आम है और आप अपनी समस्या का इलाज करवा कर सही काम कर रही हैं।

आपको अपनी यौन समस्या के समाधान के लिए क्या करना होगा यह आपकी समस्या पर निर्भर करता है। नीचे हम कुछ सामान्य यौन समस्याएं, उनका कारण और इलाज बता रहे हैं।

यौन समस्याएं जो दोनों पार्टनर को प्रभावित करती हैं

ज़ाहिर है कि यौन समस्याएं आपके यौन जीवन पर खराब असर डालेंगी। यदि कोई महिला हमेशा दर्द को लेकर चिंतित रहती है तो उसके लिए सहज होकर सेक्स करना और पूरा आनंद लेना मुश्किल हो सकता है और इससे उसका पार्टनर तनाव में आ सकता है। ऐसे कपल्स पूरी तरह सेक्स से दूर हो सकते हैं और सामान्य रुप से अंतरंग होकर भी एक दूसरे को निराश और असंतुष्ट कर सकते हैं

इसलिए ऐसी समस्या होते ही उसके बारे में बात करना ज़रूरी है।

सेक्स के दौरान दर्द

सेक्स के दौरान दर्द होना आम बात है और यह कई अलग-अलग कारणों से होता है जैसे इंफेक्शन या सायकोलॉजिकल ट्रामा। यदि दर्द शारीरिक है तो इसे डिस्परेयूनिया कहा जाता है।

ड्राइनेस (सूखापन) और वेजाइनिज्म सेक्स के दौरान दर्द के दो मुख्य कारण हो सकते है। दर्द योनि के किसी भी हिस्से के आसपास हो सकता है, बाहर या अंदर कहीं भी। यह सेक्स के दौरान या बाद में हो सकता है।

दर्द होने से महिलाओं को सेक्स करने की इच्छा नहीं होती है। यह कारण समझ में आता है इसलिए जानबूझ कर आप क्यों ऐसा कुछ करना चाहेंगी जिससे अनचाहा दर्द हो?

इससे पहले कि दर्द आपकी इच्छाओं को मार दे, जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाएं और अपना इलाज कराएं। सेक्स के दौरान दर्द कई अलग-अलग कारणों से होता है और इसका इलाज आपकी स्थिति पर निर्भर करता है।

सेक्स की इच्छा कम होना

सेक्स करने की इच्छा कम होने का मतलब है कि सेक्स में आपकी रुचि घटना। यह समस्या कुछ समय तक या फिर लंबे समय तक बनी रह सकती है।

सेक्स की इच्छा कम होने के पीछे अक्सर मनोवैज्ञानिक कारण होते हैं, जैसे कि ख़ुद से प्यार ना होना, रिश्ते में परेशानी या प्यार करने से जुड़ा डर।

सेक्स की इच्छा में कमी बहुत आम है। कई महिलाओं को यह समस्या डिलीवरी के बाद होती है। हालांकि धूम्रपान और कुछ दवाओं के सेवन से भी यह इच्छा घट सकती है।

तनाव और डिप्रेशन भी इसके लिए ज़िम्मेदार हो सकते हैं।

जिन महिलाओं की सेक्स करने की इच्छा कम होती है, वो अक्सर संबंध बनाने से दूर भागती हैं और अपने पार्टनर के साथ सेक्स से जुड़ी बातें करने से बचती हैं। यदि पार्टनर सेक्स करने की कोशिश करते हैं, तो महिलाओं को उत्तेजित होने या सहज होने में परेशानी हो सकती है।

सेक्स की इच्छा में कमी का इलाज करने के लिए डॉक्टर सबसे पहले समस्या के कारणों का पता लगाते हैं और उसके अनुसार इलाज शुरू करते हैं। इसमें मनोवैज्ञानिक देखभाल या दवा बदलने की ज़रूरत पड़ती है।

ड्राईनेस

योनि में गीलापन न होने की समस्या हर उम्र की महिलाओं को प्रभावित कर सकती है। योनि में ड्राईनेस कई कारणों से होता है-जैसे डिहाइड्रेशन या फिर हार्मोनल असंतुलन।

ड्राइनेस के कारण सेक्स करने में परेशानी होती है और दर्द भी होता है, यदि ऐसा अक्सर हो रहा हो तो आपके सेक्स करने की इच्छा भी प्रभावित हो सकती है।

ल्यूब्रिकेंट का इस्तेमाल थोड़े समय के लिए एक बेहतर समाधान हो सकता है। लेकिन यदि समस्या लगातार बनी है तो आपको डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

आमतौर पर महिलाओं को उत्तेजित होने में पुरुषों की अपेक्षा अधिक समय लगता है, इसलिए अधिक देर तक फोरप्ले करना जब तक की दोनों पार्टनर उत्तेजित ना हो जाएं, ड्राईनेस को कम करने में मदद करता है।

ऑर्गेज्म और उत्तेजना की समस्या

कुछ महिलाएं उत्तेजित नहीं हो पाती हैं। यह समस्या सेक्स की इच्छा में कमी से जुड़ी हो सकती है। कभी-कभी किसी महिला को सेक्स की इच्छा तो होती है लेकिन उसके शरीर से कोई संकेत नहीं मिलता है। यह दोनों ही पार्टनर के लिए ठीक नहीं होता है।

डायबिटीज या अर्थराइटिस जैसे रोगों से जननांगों में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है जिसके कारण यौन उत्तेजना के शारीरिक लक्षण नहीं दिखते हैं।

यही नहीं ऑर्गेज्म की समस्या भी हो सकती है। ऑर्गेज्म या तो देर से होगा या फिर महिला ऑर्गेज्म तक पहुंच ही नहीं पाएगी।

महिलाएं हमेशा यह नहीं जानती हैं कि ऑर्गेज्म तक कैसे पहुंचा जाए। अपने शरीर को जानना, अपने पार्टनर के साथ होना या हस्तमैथुन मदद कर सकता है। पार्टनर से अपनी ज़रूरतों के बारे में बात करने से काफ़ी मदद मिलती है।

इसके अलावा कभी-कभी यह दिमाग में कोई बात गांठ बांध लेने से भी होती है। ख़ासकर महिलाओं को यह बताया जाता है कि उनके लिए सेक्स का आनंद लेना ठीक नहीं है। बेहतर है कि आप सेक्स और उसके आनंद के बारे में अधिक से अधिक पढ़ने की कोशिश करें या अपने किसी भरोसेमंद दोस्त से बात करें।

महिलाओं में यौन समस्याओं के अन्य कारण

हिस्टेरेक्टॉमी

गर्भाशय निकाल देने से महिला के यौन जीवन में कई बदलाव हो सकते हैं।

यौन संबंध बनाते समय महिला को सेक्स की इच्छा में कमी, गीलेपन की समस्या और कम सनसनाहट महसूस हो सकती है।

ये परिवर्तन सर्जरी के कारण टिश्यू नष्ट होने या हार्मोन में बदलाव के कारण हो सकते हैं।

गर्भनिरोध

हार्मोनल बर्थ कंट्रोल विधियों को अपनाने से महिला का यौन जीवन प्रभावित हो सकता है। कई बदलाव परिवार नियोजन के तरीकों के साइड इफेक्ट होते हैं और वे अक्सर समय के साथ चले जाते हैं या कम हो जाते हैं। यदि समस्या दूर नहीं होती है डॉक्टर से परामर्श लेना ज़रूरी है।

जन्म देना

जन्म देने के बाद महिला को फिर से सेक्स करने के लिए तैयार होने में कुछ महीने का वक्त लगता है। और यह पहले की तुलना में अलग हो सकता है।

इसका मतलब यह नहीं है कि यह ग़लत है, लेकिन आपको कुछ चीज़ों को बदलना होगा।

मेनोपॉज

मेनोपॉज के बाद महिलाओं के शरीर में कम एस्ट्रोजन बनता है, इसलिए सेक्स करने में परेशानी हो सकती हैं। सेक्स की इच्छा में कमी अक्सर मूड से जुड़ी होती है जो हार्मोनल परिवर्तन से होता है। ड्राईनेस और सेसेंशन भी घट सकता है। इसके इलाज के लिए हार्मोनल रिप्लेसमेंट थेरेपी एक अच्छा विकल्प है

- विज्ञापन -
Bharat247
Bharat247https://bharat247.com
bharat247 पर ब्रेकिंग न्यूज, जीवन शैली, ज्योतिष, बॉलीवुड, गपशप, राजनीति, आयुर्वेद और धर्म संबंधित लेख पढ़े!
संबंधित लेख
- विज्ञापन -

लोकप्रिय लेख

- विज्ञापन -